महागुरु जी ईश्वर की महाशक्तियों दिव्य ऊर्जाओं द्वारा इस संसार का संचालन करते हैं |

महागुरु जी योग निद्रा जो कि ध्यान की सर्वोत्कृष्ट अवस्था होती है, उसके द्वारा देवताओं से संपर्क में रहते हैं , और उनके आदेशों के अनुसार इस संसार का संचालन करते हैं

१८ मई २०२० को महागुरु जी ने उनके ट्विटर प्रोफाइल पर लिखा

 

C I A S #future

— Mahaguru Kritakritacharya (@Kritakritachary) May 17, 2020

जिसका अर्थ है : “Cyclone In Arabian Sea #Future” . अरब सागर में जल्द ही एक चक्रवात का निर्माण ईश्वर के आदेशों के अनुसार किया गया है |

उन्होंने 28 मई को बताया कि एक लो प्रेशर एरिया को चक्रवात में जल्द ही अरब सागर में बनेगा , जो कि चक्रवात में बदलेगा | यह 100 साल से अधिक समय में जून महीने में अरब सागर में बनने वाला पहला चक्रवात था, जो कि दिव्य ऊर्जाओं द्वारा बनाया गया था |

 

Cyclone in Arabian Sea now forming… https://t.co/Ny7h5zR0vH

— Mahaguru Kritakritacharya (@Kritakritachary) May 28, 2020

 
निसर्ग चक्रवात 3 जून को पूरी तरह अरब सागर में बना

 

A #LowPressure Areas Forms Over Arabian Sea, Another on the Anvil; Both Likely to Intensify Further https://t.co/av5PGN4vcJ

📷: (BCCL) pic.twitter.com/PcmwBkhtrA

— The Weather Channel India (@weatherindia) May 28, 2020

 चक्रवात और इतर प्राकृतिक आपदाएं महागुरु जी द्वारा ईश्वर के आदेशों पर बने जाती हैं, जब मनुष्यों द्वारा प्रकृति को हानि पहुँचाया जाता है अथवा धर्म का नुक्सान किया जाता है
महागुरु जी कहते हैं कि मनुष्यों को उनके धर्म का पूरी निष्ठा से पालन करना चाहिए ताकि वे अधिकतर प्राकृतिक आपदाओं से उनकी रक्षा कर सकें |